Pages

who is Homi J. Bhabha



Homi Bhabha (1909-1966)
Born 30 October 1909
Bombay, British India, Present-day India
Died 24 January 1966 (aged 56)
Mont Blanc, France
Residence New Delhi, India
Citizenship India
Nationality Indian
Fields Nuclear Physics
Institutions Atomic Energy Commission of India
Institute of Fundamental Research
Cavendish Laboratory
Indian Institute of Science
Trombay Atomic Energy Establishment
Alma mater Elphinstone College
Royal Institute of Science
University of Cambridge
Doctoral advisor Ralph H. Fowler
Other academic advisors Paul Dirac
Known for Indian nuclear programme
Cosmic Rays
point particles
Notable awards Padma Bhushan (1954)

Homi Jehangir Bhabha, (Hindi: होमी भाभा; October 30 1909 – January 24 1966; FRS) was an Indian nuclear physicist, founding director, and professor of physics at the Tata Institute of Fundamental Research. Colloquially known as "father of Indian nuclear programme", Bhabha was the founding director of two well-known research institutions, namely the Tata Institute of Fundamental Research (TIFR) and the Trombay Atomic Energy Establishment (now named after him); both sites were the cornerstone of Indian development of nuclear weapons which Bhabha also supervised as its director.

होमी जहांगीर भाभा (30 अक्तूबर, 1909 - 24 जनवरी, 1966) भारत के एक प्रमुख वैज्ञानिक और स्वप्नदृष्टा थे जिन्होंने भारत के परमाणु उर्जा कार्यक्रम की कल्पना की थी। उन्होने मुट्ठी भर वैज्ञानिकों की सहायता से मार्च 1944 में नाभिकीय उर्जा पर अनुसन्धान आरम्भ किया। उन्होंने नाभिकीय विज्ञान में तब कार्य आरम्भ किया जब अविछिन्न शृंखला अभिक्रिया का ज्ञान नहीं के बराबर था और नाभिकीय उर्जा से विद्युत उत्पादन की कल्पना को कोई मानने को तैयार नहीं था। उन्हें 'आर्किटेक्ट ऑफ इंडियन एटॉमिक एनर्जी प्रोग्राम' भी कहा जाता है। भाभा का जन्म मुम्बई के एक सभ्रांत पारसी परिवार में हुआ था। उनकी कीर्ति सारे संसार में फैली। भारत वापस आने पर उन्होंने अपने अनुसंधान को आगे बढ़ाया। भारत को परमाणु शक्ति बनाने के मिशन में प्रथम पग के तौर पर उन्होंने 1945 में मूलभूत विज्ञान में उत्कृष्टता के केंद्र टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआइएफआर) की स्थापना की। डा. भाभा एक कुशल वैज्ञानिक और प्रतिबद्ध इंजीनियर होने के साथ-साथ एक समर्पित वास्तुशिल्पी, सतर्क नियोजक, एवं निपुण कार्यकारी थे। वे ललित कला व संगीत के उत्कृष्ट प्रेमी तथा लोकोपकारी थे। 1947 में भारत सरकार द्वारा गठित परमाणु ऊर्जा आयोग के प्रथम अध्यक्ष नियुक्त हुए। १९५३ में जेनेवा में अनुष्ठित विश्व परमाणुविक वैज्ञानिकों के महासम्मेलन में उन्होंने सभापतित्व किया। भारतीय परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम के जनक का २४ जनवरी सन १९६६ को एक विमान दुर्घटना में दुखद निधन हो गया


for more information
http://en.wikipedia.org/wiki/Homi_J._Bhabha


For Daily GK Updates Like Facebook